Thursday, January 20, 2011

अद्भुत खेल !

इधर जोर-शोर से
तैयारियां चल रही थी,
फाइनल टचिंग की,
सरकारी स्तर पर !

और उधर, खेल गाँव में
सांप जी लेटे थे,
एक अफ्रीकी
ऐथेलीट के बिस्तर पर !!

अफ्रीकी ऐथेलीट
उसे देखकर बोला,
ये तो भैया मेरे साथ
सरासर रंग-भेद है !

मुझे भी लगता है
कि अबके इस
कॉमन वेल्थ के खेल में
कोई बड़ा छेद है !!

रूम अटेंडेंट दौड़ा-दौड़ा
उसके पास जाकर बोला,
चुपकर, अबके अद्भुत
ये खेल निराले है !

पांच साल में ७००००
करोड़ रूपये खर्च कर ,
हमने सांप और
संपेरे ही तो पाले है !!

No comments: