Saturday, March 3, 2012

क्षणिकाएँ !

देह माटी की,


दिल कांच का,


दिमाग आक्षीर


रबड़ का गुब्बारा,


बनाने वाले ,


कोई एक तो चीज


फौलाद की बनाई होती !


xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx


नयनों में मस्ती,


नजरों में हया,


पलकों में प्यार,


ये तीन ही तो विलक्षणताएँ


प्रदर्शित की थी महबूबा ने


मुह दिखाई के वक्त !


वो हमसे रखी छुपाये,


तेवर जो बाद में दिखाये,


नादाँ ये नहीं जानती कि


सरकारी मुलाजिम से


महत्वपूर्ण जानकारी छुपाना,


भारतीय दंड संहिता के तहत


दंडनीय अपराध है !!


xxxxxxxxxxxxxxxxxx


दहशतें बढ़ती गई,


जख्म फिर ताजा हुआ,


हँस-हँस के बजा जो कभी


वो  बैंड अब बाजा हुआ,


तेरी बेरुखी, तेरे नखरे,


कर देंगे इक दिन मेरा


जीना मुहाल,


छोड़कर बच्चे जिम्मे मेरे


जब तुम मायके चली गई


तब जाके ये अंदाजा हुआ !


xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx


ये मैंने कब कहा था


कि तुम मेरी हो जाओ,


सरनेम (उपनाम ) बदलने को


तुम्ही बेताव थी !!


xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx


क्या तुम जानती हो कि


यह सूचना मिलने पर


कि तुमने अपना


घर बसा लिया,


तुम्हारी माँ,


यानि मेरी सास ने


३ फुट गुणा ६ फुट का


पर्दा क्यों भेजा था?


क्योंकि वो जानती थी कि


महंगाई और


मंदी के इस दौर में


शहरी लोगो के पास


परिधानों की


अत्यंत कमी चल रही है !!



No comments: