Wednesday, April 8, 2009

जूते का बयान !

दफ्तर को निकलने की,
मारामारी में था,
कपड़े पहनकर,
जूते पहनने की तैयारी में था !

पास खड़ी श्रीमती ने,
अपनी मधुर जुबां खोली,
जूतों को हाथ लगा,
निहारती हुई बोली !

टायट लग रहे है,
कहीं काट तो नही रहे
मैंने ना में मुंडी हिलाई,
बिना कुछ कहे !

पैरो के नीचे से अचानक,
कोई आवाज आई,
और फिर इक व्यंगात्मक,
हँसी दी सुनाई !

दांया जूता बांये से
कह रहा था, मुस्कराते हुए,
अबे! इस मैडम से बोल,
अरसा हो गया लोगो को काटे हुए !

काट सकें, तुम इंसानों ने हमें,
अगर इस लायक छोड़ा होता,
तो आज जूता ख़ुद की बदनशीबी पे,
क्यो इस तरह रो रहा होता ?

सुनते आए थे कि इंसान एक घटिया,
जीव है धरा पर,
परख भी लिया अब तो हमने,
इराक,एसीसीआई के दफ्तर जाकर !

किसी के अपमान के लिए,
शस्त्र बनाया हमें सीधा-साधा देख,
ख़ुद की तस्सली के लिए
खीज निकाली किसी पर हमें फेंक!

इससे भी पेट न भरा तो ,
खुले आम हमारी बोली लगा दी !
नही बस चला तो चौराहे पर,
सरे आम होली जला दी !

कहे देते है,सीमा में रहकर,
इस्तेमाल करो वरना ,
भली भांति जानते है,
कि क्या हमें है करना !

गर अपनी पे आ गये हम भी,
उस दिन बुरी तरह घिरोगे,
किसी पोडियम के पीछे,अपने बुश और
चिदंबरम की भांति सिर बचाते फिरोगे !

No comments: