Friday, September 10, 2010

अन्दर की बात !

सोचा कि बता दूं तुम्हे,
फिर कहोगी, बताया नहीं ,
महीनो से ठीक से खाया नहीं,
सिर्फ पीने पे जोर ज्यादा है !
इसलिए आजकल
ये शरीर कमजोर ज्यादा है!!


अभी भी सोच लो,
वक्त है तुम्हारे पास,
कल को मर गया,
लोग तो भूखमरी से
मौत का लगायेंगे कयास !
मगर क्या तुम खुश रह पाओगी
करके मुझे उदास ? नहीं न !!

जिसके चक्करों में पडी हो,
उसकी दौलत पे मत जाओ,
वो ईमानदार कम, चोर ज्यादा है !
दिन-रात गबन करता है,
चूँकि तुम अपने घर की इकलौती हो,
इसलिए तुम पर नहीं,
तुम्हारे बाप की दौलत पर मरता है !
सोचा कि बता दूं तुम्हे,
फिर कहोगी बताया नहीं,
महीनो से ठीक से खाया नहीं,
सिर्फ पीने पे जोर ज्यादा है !!
इसलिए आजकल
ये शरीर कमजोर ज्यादा है!!

XXXXXXXXXXXXXXX

कितना चाहता था तुम्हे, तुमको न अहसास था,
गुमनाम सी मौत मर गया, वो आशिक ख़ास था।
तड़फ-तड़फ दीवाने ने दम तोड़ा, वफ़ा की राह में,
लोगो ने भुखमरी से मौत का, लगाया कयास था।
देखकर भी न देखा कभी, इक नजर उसकी तरफ,
मगर रहता हर वक्त वो, तुम्हारे ही आस-पास था।
वो चहरे की हंसी उसकी, जिन्दादिली का सबब थी,
इन दिनों नजर आता मगर, कुछ-कुछ उदास था।
यूं मर तो वर्षों पहले गया था, तेरे रूहे-सबाब पर,
समा पे मंडराता परवाना, बस इक ज़िंदा लाश था।
जमाने की नजरों से छुपाता फिरा, अपनी चाह को,
वनवास बाद 'परचेत' , यह उसका अज्ञातवास था॥

No comments: